केवल आईआरएस अधिकारियों के लिए Login

खोज
 
Home History of IRS

भारत में आकयर का प्रशासन शीध्र से शीध्र 1860 में आरंभ हुआ । प्रारंभिक वर्षों में, प्रान्‍तीय सरकारों ने यह कर लागू किया । आयकर विभाग का संधटनात्‍मक इतिहास वर्ष 1922 में प्रथम बार विभिन्‍न आयकर प्राधिकारियों की विशिष्‍ट नामावली की 1 1924 में केन्‍द्रीय राजस्‍व बोर्ड अधिनि‍यम ने आयकर अधिनियम के प्रशासन के लिए प्रकार्यात्‍मक जिम्‍मेदारी के साथ केन्‍द्रीय राजस्‍व बोर्ड सांविधिक निकाय का गठन किया । प्रत्‍येक प्रांत के लिए आयकर आयुक्‍त नियुक्‍त किए गए तथा सहायक आयुक्‍त तथा आयकर अधिकारी उनके नियंत्रणाधीन रखे गये । सर्वोच्‍य पदों के लिए आई सी एस से अधिकारियों को लिया गया और निम्‍नतर सोपान पदों को प्रोन्‍नति के माध्‍यम से भरा गया । आयकर सेवा की स्‍थापना 1944 में की गई , जो बाद में भारतीय राजस्‍व सेवा (आयकर) के नाम से जानी गई ।

आयकर अधिकारियों (वर्ग-II) का पहला बैच आई ए और ए एस तथा संबंद्ध सेवाओं के लिए संधीय सेवा आयोग द्वारा संचालित 1943 परीक्षा के माध्‍यम से बर्ष 1944 में सीधे भर्ती किया गया ।

अधिकारियों (वर्ग- 1) की भर्ती 1945 में आई ए और ए एस तथा संबंद्ध सेवा परीक्षा 1944 के माध्‍यम से 18अधिकारियों की भर्ती के साथ प्रांरभ हुई । उस समय सेवा को आयकर अधिकारी (वर्ग- 1) सेवा के नाम से जाना जाता था

संध लोक सेवा आयोग के गठन के पश्‍चात् संयुक्‍त सिविल सेवा परीक्षा के माध्‍यम से भर्ती की जाती थी । 1953 में सेवा को स्‍वतंत्र केन्‍द्रीय सेवा के रूप में जाना गया तथा उसे भारतीय राजस्‍व सेवा (आयकर) का नाम दिया गया । प्रारंभिक वर्षो में अधिकारियों की भर्ती चार विभिन्‍न तरीकों से की जाती थी । अधिकारी 1943 परीक्षा के माध्‍यम से आयकर अधिकारी (वर्ग-II) के रूप में सीधे भर्ती किए गए और उन्‍हें वर्ग-1 में पदोन्‍नत किया जाता था और उन्‍हें उनके आयुक्‍तों के मुल्‍यांकन के आधार पर महत्‍व दिया जाता था ।

1944 परीक्षा के माध्‍यम से अधिकारियों की वर्ग-1 में सीधी भर्ती अधिकारी 1943 परीक्षा के माध्‍यम से आयकर अधिकारी (वर्ग-II) के रूप में सीधे भर्ती किए गए और बाद में उनका चयन वर्ग – 1 के लिए किया गया । उन्‍हें भी महत्‍व दिया गया तथा उनकी वरिष्‍ठता सीधी भर्ती किए गए के संबंध में समायोजित की गई । निम्‍नतर पदों से अधिकारियों को वर्ग- 1 में पदोन्‍नत किया गया ।

1957 में सशस्‍त्र सेना और आयकर अधिकारियों (वर्ग –II) में से प्रतियोगिता परीक्षा द्वारा तदर्थ आधार पर कुछ अधिकारियों (वर्ग-1) की भी भर्ती की गई ।

कुछ समय बाद भारतीय राजस्‍व सेवा में प्रवेश के केवल दो स्रोत शेष रह गये – संध लोक सेवा आयोग द्वारा संचालित सिविल सेवा परीक्षा के माघ्‍यम से अधिकारियों की सीधी भर्ती और आयकर अधिकारी (वर्ग-II) ग्रेड से पदोन्‍नत अधिकारी, अकादमी में प्रवेशन प्रशिक्षण अब केवल सीधी भर्ती वाले भा.रा.से. के अधिकारियों को ही प्रदान किया जाता है । आयकर अधिकारियों सहित अन्‍य अधिकारी सेवा में ही क्षेत्रीय संस्‍थानों में चल रहे पाठ्यक्रमों में जाते है ।