केवल आईआरएस अधिकारियों के लिए Login

खोज
 

केन्‍द्रीय प्रत्‍यक्षकर बोर्ड

1. कार्य और संगठन

केन्‍द्रीय प्रत्‍यक्षकर बोर्ड एक सांविधिक प्राधिकारण है जो केन्‍द्रीय राजस्‍व बोर्ड अधिनियम, 1963 के अधीन कार्य कर रहा है । बोर्ड के पदधारी अपनी पदेन हैसियत से प्रत्‍यक्षकरों को लगाने और संग्रहण करने संबंधी मामलों में मंत्रालय के प्रभाग के रूप में भी कार्य करेगें ।

2. के. प्र. कर बोर्ड की ऐतिहासिक पृष्‍ठभूमि

केन्‍द्रीय राजस्‍व बोर्ड विभाग के शीर्ष निकाय के रूप में केन्‍द्रीय राजस्‍व बोर्ड अधिनियम, 1994 के परिणाम स्‍वरूप करों के प्रशासन के प्रभार के साथ अस्तित्‍व में आया। आरंभ में बोर्ड को प्रत्‍यक्ष और अप्रत्‍यक्ष दोनों प्रकार के करों का प्रभार दिया गया । जब करों का प्रशासन एक बोर्ड द्वारा संभालना मुश्किल हो गया तब 1-1-1964 से बोर्ड को दो भागों में विभक्‍त कर दिया गया अर्थात केन्‍द्रीय प्रत्‍यक्ष कर बोर्ड और केन्‍द्रीय उत्‍पाद शुल्‍क और सीमा शुल्‍क बोर्ड / दो बोर्डों का गठन करके इस विभाजन को केन्‍द्रीय राजस्‍व बोर्ड अधिनियम, 1963 की धारा,(3) के अधीन लाया गया ।

3. के. प्र. कर बोर्ड की रचना और कार्य

केन्‍द्रीय प्रत्‍यक्ष कर बोर्ड एक अध्‍यक्ष और निम्‍नलिखित छ: सदस्‍यों से बना है :-

  1. अध्‍यक्ष
  2. सदस्‍य (आयकर)
  3. सदस्‍य (विधि और कम्‍प्‍यूटरीकरण)
  4. सदस्‍य (कार्मिक और सतर्कता)
  5. सदस्‍य (अन्‍वेषण)
  6. सदस्‍य (राजस्‍व)
  7. सदस्‍य (लेखा परीक्षा और न्‍यायिक)

4. कार्य का आंबटन

1. मामले या विशेष मामले, जिन पर बोर्ड द्वारा संयुक्‍त रूप से विचार किया जायेगा।

1. प्रत्‍यक्ष करों से संबंधित विभिन्‍न नियमों के अंतर्गत नीति संबंधी बोर्ड और संध सरकार के सांविधिक कार्यो को पूरा करना ।

2. सामान्‍य नीति के संबंध में:-

  • (क) आयकर विभाग के ढांचे और उसकी संरचना की व्‍यवस्‍था
  • (ख) बोर्ड के कार्य की पद्धतियां और कार्यविधियां
  • (ग) निर्धारणों के निपटान, करों के संग्रहण, निवारण तथा कर अपवंचन और कर बचाव का पता लगाने के उपाय
  • (घ) भर्ती, प्रशिक्षण और सेवा शर्तों के संबंध में अन्‍य सभी मामले और आयकर विभाग के कार्मिकों की कैरियर संभावनाएं

3. निर्धारण के निपटान और करों के संग्रहण तथा अन्‍य संबंधित मामलों के लिए लक्ष्‍य निर्धारित करना तथा प्राथमिकताएं निश्चित करना |

4. प्रत्‍येक मामले में 25 लाख रू. की कर मांग को बटटे खाते में डालना ।

5 इनाम और प्रशंसनीय प्रमाण-पत्र प्रदान करने के संबंध में नीति |

6. कोई अन्‍य मामला जिसे अध्‍यक्ष या बोर्ड का कोई सदस्‍य अध्‍यक्ष के अनुमोदन से बोर्ड के संयुक्‍त विचार के लिए प्रस्‍‍तुत कर सकता है ।

2. मामले और विशेष मामले, जिन पर केन्‍द्रीय प्रत्‍यक्षकर बोर्ड द्वारा संयुक्‍त रूप से विचार किया जायेगा ।

1. प्रशासनिक योजना

2. मुख्‍य आयकर आयुक्‍त और आयकर आयुक्‍त के संवर्ग में अधिकारियों के स्‍थानांतरण और तैनाती

3. विदेश प्रशिक्षण से संबंधित सभी मामले

4. शिकायत सेल और निरीक्षण प्रभाग

5. आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 80- ओ के अधीन विदेश कर प्रभाग संबंधी मामले

6. प्रत्‍यक्ष करों से संबंधित कर योजना और कानून संबंधी सभी मामले सदस्‍य (विधि) द्वारा अध्‍यक्ष को भेजें जायेंगें ।

7. आयकर महानिदेशक (प्रशा.) और आयकर महानिदेशक (अंतर्राष्‍ट्रीय कराधान) पर पर्यवेक्षण और नियंत्रण

Next